वे बूढ़े

वे बूढ़े..
तब से करते हैं...लड़ाई,
अपने आप से..जब वे पैदा करते हैं
अपने बच्चे..
करते हैं जीवन संघर्ष..
काम...कड़ी मेहनत,
झेलते हैं..सहते है..तमाम क्लेश, क्लांति..
कभी करते क्रोध,
तो कभी समझाते शांति..
पर...
आदर्शों के साथ जीना..
और देना अच्छे संस्कार...
रहता है सदा उनका लक्ष्य।
और फिर बीतता है समय...
जब वे दोनों,
अपने दोनों की बगिया को सींचते हैं,
लगाते हैं अपना समय..
अपना सारा मन..सारा धन
अपने बच्चों पर..
उनका ये निवेश...
उनका कर्तव्य ही तो है..
जी तोड़ मेहनत से-
अपने सभी तंतुओं को बटोरकर
एक-एक पाई जोड़कर
वे खड़ा करते हैं,
उनके लिए आधार..
जो जीवन की आँधी में हिले नहीं,
देते है घनी छाया-
बचाए जो धूप के थपेड़ों से से..
पर ये निवेश भी डूब जाता है,
सट्टा बाजार की तरह..
जब..उनके दोनों.. इन दोनों को
जमा कर देते हैं किसी वृद्ध घर में
और सिखाते हैं औकात,
बताते हैं गलतियाँ उनके जीवन की।
और तब... लगता है उन्हें..
जैसे यह पिछले जनम का
कुछ चक्कर तो जरूर है..
पर..
यही तो शाश्वत सत्य है,
औलाद तो हमेशा से ऐसी ही रही है भाई,
जिसने मरने के बाद भी नहीं छोड़ा..
उनकी मिट्टी में भी आग लगाई।

©mukesh_nagar

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मंगला गौरी स्तोत्रं mangala gauri stotram

प्राचीन पूजा विधि

विन्ध्यवासिनी स्तुति