संदेश

April, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जामदग्न्यकृतं श्रीशिवस्तोत्रं

जामदग्न्यकृतंश्रीशिवस्तोत्रं ईशत्वांस्तोतुमिच्छामिसर्वथासतोतुमक्षमम्। अक्षराक्षरबीजंचकिंवास्तौमिनिरीहकम्॥१॥ नयोजनांकर्तुमीशोदेवेशंस्तौमिमूढधीः। वेदानशक्तायंस्तोतुंकस्त्वांस्तोतुमिहेश्वरः॥२॥