श्रीमद्भागवत प्रथम स्कन्ध तीसरा अध्याय

श्रीमद्भागवत प्रथम स्कन्ध
तीसरा अध्याय
यस्यावयवसंस्थानैः कल्पितः लोकविस्तरः।
तद्वै भगवतो रूपं विशुुद्धं सत्वमूर्जितम् ।।1/3/3
भगवान के उस विराट रूप के अंग प्रत्यंग में ही समस्त लोकों की रचना की गई है। वह प्रभु का विशुद्ध सत्वमय श्रेष्ठ रूप है।

पश्यंत्यदो रूपमदभ्रचक्षुषा सहस्त्रपादोरुभुजाननाद्भुतं।।
सहस्त्रमूर्धश्रवणाक्षिनासिकं सहस्त्रमौल्यम्बरकुण्डलोल्लसत। 1/3/4
योगीजन दिव्य दृष्टि से भगवान के उस रूप का दर्शन करते हैं। भगवान का वह रूप सहस्त्र पैरों, चक्षुओं और सहस्त्र नासिकाओं वाला है।हजारों मुकुट, वस्त्र और कुंडल आदि आभूषणों से वह उल्लासित रहता है।

एतन्नानावताराणां निधानं बीजमव्ययम्।यस्यांशांशेन सृज्यन्ते देवतिर्यंङ्गरादयः।।1/3/5
भगवान का यही पुरुषरूप जिसे  नारायण कहते हैं, अनेक अवतारों का अक्षय कोष है।इसी से सारे अवतार प्रकट होते हैं। और इनके ही सूक्ष्म अंश से पशुपक्षियों और मनुष्यादि योनियों की सृष्टि होती है।

अवतार वर्णन
***********
स एव प्रथमं देवः कौमारं सर्गमास्थितः।
चचार दुश्वरं ब्रह्मा ब्रह्मचर्यमखण्डितम्।।1/3/6

प्रभु ने पहले कौमारसर्ग में सनक, सनन्दन, सनातन और सनत्कुमार- इन चार ब्राह्मणों के रूप में अवतार ग्रहण करके अत्यंत कठिन अखण्ड ब्रह्मचर्य का पालन किया।

द्वितीयं तु भवायास्य रसातलगतां महीम्।
उद्धरिष्यन्नुपादत्त यज्ञेशः सौकरं वपुः।।1/3/7
दूसरी बार इस संसार के कल्याण के लिए समस्त यज्ञों के स्वामी उन भगवान ने ही रसातल में गई हुई पृथ्वी को निकाल लाने के विचार से सूकर रूप ग्रहण किया।

तृतीयमृषिसर्गम् च देवर्षित्वमुपेत्यसः।
तन्त्रं सात्वतमाचष्ट नैष्कर्म्य कर्मणां यतः।1/3/8

ऋषियों की सृष्टि में उन्होंने देवर्षि नारद के रूप में तीसरा अवतार ग्रहण किया और सात्वत तंत्र (नारद पाश्चरात्र) का उपदेश दिया और कर्मों के द्वारा कर्मबन्धन से मुक्ति का मार्ग बतलाया।

तुर्ये धर्मकला सर्गे नरनारायणा वृषी।
भूत्वात्मोपश्मोपेतमकरोहुश्वरं तपः।।1/3/9

श्री नारायण ने धर्मपत्नी मूर्ति के गर्भ से चौथा अवतार नर तथा नारायण के रूप में लिया और ऋषियों के रूप में मन और इंद्रियों का सर्वथा संयम करते हुए कठिन तपस्या की।

पंचमः कपिलो नाम सिद्धेशः कालविप्लुतम्।
प्रोवाचासुरये सांख्यं तत्वग्राम विनिर्णयम्।।1/3/10
पंचम अवतार में वे सिद्ध कपिल स्वामी के रूप में प्रकट हुए और तत्व निर्णय करने वाले समय के साथ लुप्त हो चुके सांख्य शास्त्र को पुनर्जीवित किया और आसुरि नाम ब्राह्मण को इसका उपदेश दिया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्राचीन पूजा विधि

मंगला गौरी स्तोत्रं mangala gauri stotram

विन्ध्यवासिनी स्तुति